Tuesday, 16 January 2018

MERE DESH KI DHARATI / मेरे देश की धरती सोना उगले / LYRICS IN HINDI

मेरे देश की धरती सोना उगले

मेरे देश की धरती सोना उगले, उगले हीरे मोती
मेरे देश की धरती ...

बैलों के गले में जब घुंघरू जीवन का राग सुनाते हैं
ग़म कोस दूर हो जाता है खुशियों के कंवल मुस्काते हैं
सुनके रहट की आवाज़ें यूँ लगे कहीं शहनाई बजे
आते ही मस्त बहारों के दुल्हन की तरह हर खेत सजे,
मेरे देश ...

जब चलते हैं इस धरती पे हल ममता अंगड़ाइयाँ लेती है
क्यूँ ना पूजे इस माटी को जो जीवन का सुख देती है
इस धरती पे जिसने जनम लिया, उसने ही पाया प्यार तेरा
यहाँ अपना पराया कोई नहीं है सब पे है माँ उपकार तेरा,
मेरे देश ...

ये बाग़ है गौतम नानक का खिलते हैं चमन के फूल यहाँ
गांधी, सुभाष, टैगोर, तिलक, ऐसे हैं अमन के फूल यहाँ
रंग हरा हरी सिंह नलवे से रंग लाल है लाल बहादुर से
रंग बना बसंती भगत सिंह रंग अमन का वीर जवाहर से,
मेरे देश ...

MERE DESH KI DHARATI 

Mere desh ki dharati, sonaa ugale, ugale hire moti
Bailon ke gale men jab ghuangaru, jiwan kaa raag sunaate hain
Gam kos dur ho jaataa hai, khushiyon ke knwal musakaate hain
Sun ke rahat ki awaaje yuan lage kahi shahanaai baje
Ate hi mast bahaaron ke dulhan ki tarah har khet saje

Jab chalate hain is dharati pe hal, mamataa angadaaiyaaan leti hai
Kyo naa puje is maati ko jo jiwan kaa sukh deti hai
Is dharati pe jis ne janam liyaa, usane hi paayaa pyaar teraa
Yahaaan apanaa paraayaa koi nahin, hai sab pe maaan upakaar teraa

Ye baag hai gautam naanak kaa, khilate hain aman ke ful yahaaan
Gaaandhi, subhaash, taigor, tilak aise hain chaman ke ful yahaaan
Rng haraa harising nalawe se, rng laal hai laal bahaadur se
Rng banaa basnti bhagatasing, rng aman kaa wir jawaahar se

No comments:

Post a Comment