Tuesday, 16 January 2018

KAR CHALE HAM FIDAA / कर चले हम फ़िदा जान-ओ-तन साथियों / LYRICS IN HINDI

कर चले हम फ़िदा जान-ओ-तन साथियों


कर चले हम फ़िदा जान-ओ-तन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों]x३

हां हां…
साँस थमती गई नब्ज़ जमती गई
फिर भी बढ़ते कदम को न रुकने दिया
कट गये सर हमारे तो कुछ ग़म नहीं
सर हिमालय का हमने न झुकने दिया
मरते मरते रहा बाँकापन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों
कर चले हम फ़िदा…

ज़िंदा रहने के मौसम बहुत हैं मगर
जान देने की रुत रोज़ आती नहीं
हुस्न और इश्क़ दोनों को रुसवा करे
वो जवानी जो खूँ में नहाती नहीं
आज धरती बनी है दुल्हन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों
कर चले हम फ़िदा…

राह क़ुर्बानियों की न वीरान हो
तुम सजाते ही रहना नये क़ाफ़िले
फ़तह का जश्न इस जश्न के बाद है
ज़िंदगी मौत से मिल रही है गले
बांधलो अपने सर से कफ़न साथियों,
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों
कर चले हम फ़िदा…

खींच दो अपने खूँ से ज़मीं पर लकीर
इस तरफ़ आने पाये न रावण कोई
तोड़ दो हाथ अगर हाथ उठने लगे
छूने पाये न सीता का दामन कोई
राम भी तुम तुम्हीं लक्ष्मण साथियों,
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

कर चले हम फ़िदा जान-ओ-तन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

KAR CHALE HAM FIDAA


Kar chale ham fidaa jaan-o-tan saathiyon
Ab tumhaare hawaale watan saathiyon

Saaans thamati gi, nabj jamati gi
Fir bhi badhate kadam ko naa ruk ne diyaa
Kat gaye sar hamaare to kuchh gam nahin
Sar himaalay kaa hamane naa jhuk ne diyaa
Marate marate rahaa baaankpan saathiyon,
Ab tumhaare hawaale, watan saathiyon

Jindaa rahane ke mausam bahut hai magar
Jaan dene ki rut roj ati nahin
Husn aur ishk dono ko rusawaa kare
Wo jawaani jo khun men nahaati nahin
Aj dharati bani hai dulhan saathiyon
Ab tumhaare hawaale watan saathiyon

Raah kurbaaniyon ki naa wiraan ho
Tum sajaake hi rahanaa naye kaafile
Fate kaa jashn is jashn ke baad hai
Jindagi maut se mil rahi hai gale
Baaandh lo apane sar se kafn saathiyon
Ab tumhaare hawaale watan saathiyon

Khench do apane khun se jmin par lakir
Is taraf ane paae naa raawan koi
Tod do haath agar haath uthhane lage
Chhune paae naa sitaa kaa daaman koi
Raam bhi tum, tum hi lakshman saathiyon
Ab tumhaare hawaale watan saathiyon

No comments:

Post a Comment